हैदराबाद : दुनिया के शीर्ष पांच तेजी से बढ़ने वाले हवाईअड्डों में भारत के दो हवाईअड्डे शामिल हैं. इसमें कर्नाटक के बेंगलुरु का केंपेगौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा यात्री आवागमन के मामले में पहले और तेलंगाना के हैदराबाद का राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा तीसरे स्थान पर है. हवाईअड्डा परिचालकों के संगठन ‘एयरपोर्ट काउंसिल इंटरनेशनल’ (एसीआई) ने पिछले साल के प्रदर्शन के आधार पर एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी है.

संगठन की मंगलवार को जारी एक विज्ञप्ति के मुताबिक, यात्रियों की आवाजाही के मामले में बेंगलुरु हवाईअड्डे ने 2017 के मुकाबले 2018 में 29.1 फीसदी वृद्धि दर्ज की और वह शीर्ष पर रहा. वहीं, हैदराबाद हवाईअड्डा 21.9 फीसदी वृद्धि के साथ तीसरे स्थान पर है. तुर्की का अंताल्या हवाईअड्डा इस पैमाने पर दूसरे स्थान पर है. रूस का नुकोवो और चीन का चिनान हवाईअड्डा क्रमश: चौथे और पांचवें स्थान पर है.

दुनिया में तेजी से बढ़ने वाले सभी हवाईअड्डे उभरते बाजारों में स्थित हैं. इसमें से ज्यादातर हवाईअड्डे एशिया-प्रशांत क्षेत्र में हैं. वर्ष 2018 में तेजी से बढ़ने वाले शीर्ष 30 हवाईअड्डों में से 12 चीन या भारत में स्थित हैं. एसीआई वर्ल्ड की महानिदेशक एंजेला गिटेन्स ने कहा कि भारत अधिक उदार विमानन बाजार की ओर बढ़ा है. देश की मजबूत आर्थिक बुनियाद से बहुत कम समय में तीव्र वृद्धि वाले बाजारों में शामिल होने में मदद मिली है.

एसीआई विश्व के हवाईअड्डों का संगठन है. इसके 646 सदस्य हैं, जो 176 देशों में 1,960 हवाईअड्डों का परिचालन कर रहे हैं. दिल्ली का इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा 7 करोड़ यात्रियों के साथ 12वें स्थान पर रहा है. वर्ष 2017 के मुकाबले इसकी रैकिंग में चार अंक का सुधार हुआ है. हालांकि, माल रखरखाव के मामले में शीर्ष 20 हवाईअड्डों में भारत का कोई हवाईअड्डा नहीं है.