कोरोना मामलों में आई गिरावट के बाद सरकार ने उड़ानों पर कैपेसिटी कैप्स हटाने का फैसला किया है. मसलन अब पूरी क्षमता के साथ विमान उड़ेंगे, जो 18 अक्टूबर से प्रभावी हो जाएगा.  18 अक्टूबर से घरेलू व्यावसायिक उड़ानों में यात्रियों की क्षमता को लेकर लागू पाबंदियां हटा ली जाएंगी. सितंबर में सरकार ने घरेलू उड़ानों की यात्री क्षमता 72.5 फीसदी से बढ़ाकर 85 फीसदी कर दी थी.

इससे पहले मिनिस्ट्री ऑफ सिविल एविएशन (एमओसीए) ने जुलाई में डॉमेस्टिक फ्लाइट्स की कैपिसिटी को 50 फीसदी से बढ़ाकर 65 फीसदी किया था. कोरोना की वजह से 23 मार्च 2020 से शेड्यूल्ड अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक लगाई गई थी, लेकिन मई 2020 से वंदे भारत मिशन के तहत विशेष अंतरराष्ट्रीय उड़ानोका परिचालन हो रहा है. इसके अलावा चुनिंदा देशों के साथ ‘द्विपक्षीय ‘एयर बबल’ व्यवस्था के तहत जुलाई, 2020 से उड़ानों का परिचालन हो रहा है. 18 अक्टूबर से 100 फीसदी क्षमता से उड़ानों के संचालन की इजाजत दे दी गई है.

 

@GRAMANCHALNEWS