बिहार में बारिश मुसीबत बनकर बरसती है. बिहार में हो रही बारिश और प्रमुख नदियों के जलस्तर में हो रही वृद्धि से राज्य के कई जिलों में बाढ़ की स्थिति बन गई है. नदियों के उफान से डरे लोग बाढ़ की आशंका को लेकर उंचे स्थानों पर जा रहे हैं. इन दिनों बिहार के कई जिलों में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है. बारिश के पानी की वजह से प्रदेश की नदियां भी अपने उफान पर है.

बिहार की नदियां उफान पर, कई गावों में घुसा बाढ़ का पानी

जल संसाधन विभाग के एक अधिकारी ने शनिवार को बताया कि सुबह आठ बजे वीरपुर बैराज में कोसी नदी का जलस्तर 2.21 लाख क्यूसेक दर्ज किया गया था, जो अपराह्न् दो बजे 1.97 लाख क्यूसेक हो गया.जल संसाधन विभाग के मुताबिक, बागमती नदी डूबाधार, सोनाखान, ढेंग, कटौंझा हायाघाट और बेनीबाद में जबकि बूढ़ी गंडक समस्तीपुर में रोसड़ा रेल पुल के पास खतरे के निशान को पार कर गई है.

राज्य के पष्चिम चंपारण और गोपालगंज के कई इलाकों में बाढ का पानी घुस गया है. गांव बाढ के पानी से घिर गए हैं. लोग उंचे स्थानों पर षरण लिए हुए हैं. बताया जा रहा है कि कई गांवों का सड़क संपर्क पूरी तरह टूट गया हैं. शिवहर में भी बाढ़ की स्थिति बनी हुई है, जबकि मुजफ्फरपुर के दो प्रखंडों में बाढ़ का पानी घुस गया है.

 

@GRAMANCHALNEWS